Skip to main content

Posts

अफेयर के मामले में बेहद धनी रहीं मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेेन

आर.बी.एल.निगम, फिल्म समीक्षक 
आज अपना 42वां बर्थडे मना रहीं सुष्मिता इन दिनों अपने एक खास सपने नानचाकू ट्रेनिंग को पूरा कर रही हैं. सुष्मिता मानती हैं कि इसके जरिये वह एक सम्पूर्ण महिला बनेंगी. यह सिर्फ आत्मरक्षा नहीं, बल्कि आध्यामिकता से जुड़ा मामला भी है. वैसे, सुष्मिता अपनी माँ से बेहद प्यार करती हैं. उन्होंने हाल में अपने इन्स्टाग्राम अकाउंट पर इसका इज़हार भी किया है.
19 नवंबर को जन्म लेने वाली सुष्मिता सेन आज 42 साल की हो गईं. दिलचस्प बात तो यह है कि वह दो बेटियों की अविवाहित मां हैं. दरअसल उन्होंने 2000 में पहली लड़की को गोद लिया था जिसका नाम उन्होंने रिनी रखा. रिनी अब लगभग 18 साल की हो चुकी है. वहीं, जनवरी 2010 में उन्होंने एक और लड़की को गोद लिया, जिसका नाम उन्होंने अलीशा रखा. गोद लेते वक्त अलीशा 3 महीने की थी और जो अब 7 साल की हो चुकी है. मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन कई फिल्मों में काम करने के बावजूूूद नाम नहीं कमा पाईं. हालांकि अफेयर के मामले में सुष्मिता सेेेन का नाम बेहद सुर्खियों में रहा. मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन का डायरेक्टर विक्रम भट्ट के साथ अफेयर रहा है.
एक इंटरव्यू में विक्…
Recent posts

बॉलीवुड में चर्चित चुम्बन

आर.बी.एल.निगम, फिल्म समीक्षक बॉलीवुड फिल्मों में रोमांस और किसिंग सीन कोई नई चीज नहीं है। ज्यादातर निर्देशक स्क्रिप्ट की डिमांड के मुताबिक इस तरह के दृश्यों को अपनी फिल्मों में रखने में गुरेज नहीं करते हैं। हालांकि बहुत से लोग इस तरह के सीन्स को फिल्मों में शामिल किए जाने को भद्दा और गलत मानते हैं, लेकिन एक हकीकत यह भी है कि इस तरह के सीन फिल्मों में काफी वक्त से शूट किए जाते रहे हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कुछ इसी तरह की फिल्मों और उनके लिए शूट किए गए किसिंग सीन्स के बारे में जो खूब चर्चित हुए। फिल्म 'हे राम' में शामिल किया गया कमल हासन और रानी मुखर्जी का किसिंग सीन सबसे बेमेल जोड़ी का किसिंग सीन कहा जा सकता है। इन दोनों ही कलाकारों में एक चीज कॉमन थी और वह था 'टैलेंट'। फिल्म में शामिल किए गए इस किसिंग सीन ने फिल्म को उम्दा बूस्ट दिया। फिल्म साहब बीवी और गैंग्सटर में माही गिल और हरणदीप हुड्डा के बीच फिल्माया गया किसिंग सीन काफी इंटेंस था। इस सीन में रणदीप एक यंग लड़के के किरदार में थे और माही एक ऐसी पत्नी के किरदार में जो अपने पति को धोखा दे रही है।जिंदगी ना मिलेगी दोब…

बिस्तर पर इंदिरा किसी मर्द से कम न थी:--M.O MATHAI

आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार  जब हम पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की बात करते हैं, तो कई कांग्रेसी कहते हैं कि वह भारत की आयरन लेडी हैं; उसने पाकिस्तान को दो भागों में विभाजित किया और कई और अधिक लेकिन क्या वे उनके अंधेरे रहस्यों के बारे में बात करेंगे? देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के जीवन से जुड़े कुछ रहस्‍यों का खुलासा एक नई किताब में किया गया है। वरिष्‍ठ टीवी पत्रकार सागरिका घोष की लिखी किताब Indira: India’s Most Powerful Prime Minister में इंदिरा और फीरोज गांधी के रिश्‍तों पर नई रोशनी डाली गई है। किताब के अनुसार, ‘फीरोज ने 1955 में जब जीवन बीमा का राष्‍ट्रीयकरण किया, प्रेस का संसदीय कार्यवाही की रिपोर्ट‍िंग की आजादी दिलाई, हालांकि बाद में इस कानून को इंदिरा ने ही इमरजेंसी के दौरान कुचल दिया। सागरिका की किताब के अनुसार, दिल्‍ली में फीरोज को नेहरू की मौजूदगी से घुटन होती थी और तीन मूर्ति भवन में रहना उनके लिए असहनीय हो गया था। फीरोज की आशिक-मिजाजी के किस्‍से दिल्‍ली के गलियारों में सुनाई देने लगे थे। वह अक्‍सर तारकेश्‍वरी सिन्‍हा, महमूना सुल्‍तान और सुभद्रा जोशी जैस…

हिन्दू संस्कृति को अपमानित कर गौरवविंत होते फ़िल्मकार

आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार एवं फिल्म समीक्षक  टीवी पत्रकार रोहित सरदाना और अंजना ओम कश्यप ने नवम्बर 17 को फिल्म ‘पद्मावती’ पर आपस में लंबी बहस हुई। रोहित का कहना था कि करणी सेना टीवी स्पेस पाने के लिए ‘पद्मावती’ का विरोध कर रही है। ऐसे में करणी सेना को जो चाहिए था वह उसे मिल गया है। रोहित ने कहा कि ‘पद्मावती’ के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली की फिल्मों का अक्सर ही विरोध होता आया है। इस पर अंजना ने कहा कि जो भी दिमाग से फिल्में बनाएगा उसके साथ यही होगा। रोहित सरदाना ने कहा कि संजय लीला भंसाली फिल्म के जरिए रानी पद्मावती की इज्जत को नीलाम कर रहे हैं। इस पर अंजना ने सवाल किया कि क्या आपने फिल्म देखी है?
यह सच है फिल्म का विरोध करने वालों में से किसी ने फिल्म नहीं देखी है। लेकिन विरोध के स्वर राज घराने से मुखरित हुए, क्योकि संजय ने सेंसर में फिल्म भेजने से पूर्व राज घराने को फिल्म दिखाकर किसी विवादित दृश्य को निकालने की बात कही थी, परन्तु भंसाली ने फिल्म पूरी होने उपरान्त उसी राज घराने को नज़रअंदाज़ करना ही विवाद का कारण है। लेकिन indiatv पर "अपनी बात" में रजत शर्मा द्वारा फिल्म क…

मुफ़्ती साहब कौनसा इतिहास पढ़ बद्रीनाथ पर मुस्लिम अधिकार बता रहे हो?

आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार 
अभी अयोध्या, काशी और मथुरा मंदिर विवाद सुलझा नहीं है कि एक और विवाद सामने आ गया । सहारनपुर की दारुल उलूम निसवा नाम की संस्था के वाइस चांसलर मुफ्ती अब्दुल लतीफ ने कहा बद्रीनाथ तो बदरूद्दीन शाह हैं। यह मुसलमानों का धार्मिक स्थल है । हिन्दुओं को इसे मुसलमानों के हवाले कर देना चाहिए ।
हिन्दू समुदाय के पवित्रतम तीर्थस्थलों में शुमार बद्रीनाथ धाम पर एक मौलाना ने दावा किया है। मौलाना का कहना है कि उत्तराखंड में स्थित बद्रीनाथ धाम सदियों पहले मुसलमानों का तीर्थस्थल था। मदरसा दारुल उलूम निश्वाह के मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने दावा किया है कि सैकड़ों साल पहले बद्रीनाथ धाम बदरुद्दीन शाह या बद्री शाह के नाम से जाना जाता था।
मुफ़्ती लतीफ मियाँ पता नहीं, कहाँ से इस ग़लतफ़हमी में पड़ गए। याद रखिए, यदि आज भी कोर्ट रामजन्मभूमि स्थल पर हुई खुदाई में मिले समस्त अवशेषों का संज्ञान ले, उस स्थिति में कोई भी कानून बाबरी के बदले में भारत के किसी भी कोने में बनाने की इजाजत नहीं दे सकता, और उस बौखलाहट में इस तरह के उल्टे बयान देकर, क्यों अपनी भद पिटवा रहे हो। तुम्हारी अभद्र ग्लानि भरी…

योगी-मोदी से कार्य शैली एवं क्षमता सीखो, केजरीवालजी

आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार 
दिल्ली में प्रदूषण होने पर स्कूल बंद, हिन्दुओं की दीपावली पर आतिशबाज़ी पर प्रतिबन्ध, निर्माण कार्यों में रुकावट आदि करके कुछ काम न करने वाले मुख्यमन्त्री अरविन्द केजरीवाल क्या-क्या स्वांग खेल जनता को भ्रमित कर रहे हैं। ऑड और इवन के चक्कर में दिल्ली की मूर्ख बनाया जा रहा है। 
जबकि उत्तर प्रदेश के लखनऊ में यही स्थिति होने पर वहाँ के मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने अपने परोसी राज्यों के मुख्यमन्त्रियों से मिलने का स्वांग खेलने की बजाए इस समस्या से लड़ने के लिए  अपने अधिकारीयों से जल्द उचित कार्यवाही करने के निर्देश देकर, जनता को राहत देने में सफलता पायी। एक केजरीवाल है जो अपनी नाकामियों को छुपा एक-दूसरे मुख्यमन्त्री से मिलने का ड्रामा कर रहे हैं। जिसमे कार्य करने की क्षमता होती है, उसे इधर-उधर बगलें झांगने की आदत नहीं होती। 
केजरीवाल जी योगी-मोदी का विरोध करने की बजाए इनसे कार्य क्षमता सीखो। बहुत हो गए नाटक। 
एक मामूली प्रयास से शहर के लोगों को प्रदूषण से राहत मिल गयी। नवम्बर 16  को सुबह से शाम तक विभिन्न स्थानों पर हुए पानी के छिड़काव से प्रदूषण का स्तर न सिर्फ घ…

आखिर कब तक मुगलों का झूठा गुणगान किया जाता रहेगा?

आर.बी.एल.निगम , वरिष्ठ पत्रकार 
संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती पर अब छत्तीसगढ के एक शाही घराने के व्यक्ति ने कहा है कि, संजय लीला भंसाली को रिलीज से पहले अपनी फिल्म राजपूत संगठनों को दिखानी चाहिए क्योंकि यह फिल्म उनके इतिहास से जुड़ी हुई है। छत्तीसगढ़ के शाही परिवार के सदस्य दिलीप सिंह की बहू हीना सिंह ने कहा है कि, फिल्म में जिस तरह से एक रानी को घूमर में डांस करते हुए दिखाया गया है यह आपत्तिजनक है क्योंकि, राजपूत रानियां इस तरह किसी के सामने नृत्य नहीं करती थीं। हीना सिंह ने कहा कि मेरे परिवार की मांग है कि फिल्म को रिलीज से पहले हमें दिखाया जाए क्योंकि यह इतिहास की बात है। सिंह ने कहा, ‘इतिहास साक्षी है कि किसी भी राजपूत घराने की महारानी ने किसी के सामने भी कभी नृत्य नहीं किया। वे लोग इस तरह से इतिहास से खिलवाड़ नहीं कर सकते।’ शाही घराने के सदस्यों ने कहा कि डायरेक्टर को इतिहास की और महारानी पद्मावती की इज्जत करनी चाहिए। रानी ने 16000 महिलाओं के साथ मिलकर जौहर किया था और अपना जीवन हिंदुत्व और राजपूत संस्कृति के समक्ष समर्पित कर दिया था। हीना ने कहा कि हम बस इतना चाहते हैं कि एक…

AUTHOR

My photo
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)