Skip to main content

Beef Controversy: Ravinder Raina';s moves resolution in Assembly, seeks capital punishment for beef sellers


Jammu Tawi, September 18:Tre-brand as well as outspoken BJP MLA Ravinder Raina has submitted a memorandum in the Legislative Assembly in which he has demanded capital punishment for those who would be found involved in selling of cow beef or slaughtering the bovine animal. This resolution is a "master stroke" by Ravinder Raina because it will proved as counter offensive and will neutralize the campaign launched by opposition National Conference to legalize cow slaughtering in Jammu and Kashmir.
Sources in the BJP said that Ravinder Raina has submitted this resolution with the consent of party leadership. "It is good step by our colleague Ravinder Raina", said Choudhary Sham Lal, MLA Suchetgarh and warned that BJP will not allow discussion of any Bill which hurt sentiments of Hindus. He cautioned NC and other parties against playing with the sentiments of Hindus in Jammu and Kashmir.
National Conference has already submitted a memorandum in the Legislative Assembly to revoke ban on beef. In the Bill, NC seek repeal of Section 298-A, 298-B, 298-C and 298-D of Ranbir Penal Code (RPC) which ban selling and purchase of beef in the state of Jammu and Kashmir.
Meanwhile VHP today threatened to launch a massive agitation and enforce an economic blockade in Jammu and Kashmir if the assembly allowed a discussion to revoke provisions criminalizing bovine slaughter and sale of beef in the state.
"We warn the state government that Jammu would observe a black day and the people of the region would be forced to take to the streets if the Assembly Speaker allowed a discussion on an anti-beef ban bill," Leela Karan Sharma, president of VHP';s state unit told reporters.
"If the beef ban is revoked, VHP would enforce an economic blockade in Kashmir, forcing people to starve. The people of Jammu would not tolerate it...The government will have face consequences," he said.
"People will be forced to take to the streets and launch an agitation similar to the one in 2008 if slaughtering of bovines continued unabated in the region," Sharma said.
He said it was a "sensitive" issue related to religious and emotional sentiments of Hindus. "Nobody should be allowed to play with the sentiments of over one billion Hindus across the globe," he said.

Comments

AUTHOR

My photo
To write on general topics and specially on films;THE BLOGS ARE DEDICATED TO MY PARENTS:SHRI M.B.L.NIGAM(January 7,1917-March 17,2005) and SMT.SHANNO DEVI NIGAM(November 23,1922-January24,1983)

Popular posts from this blog

कायस्थ कौन हैं ?

सर्वप्रथम तो ये जान लें आप सब कि ना तो मै जातिवादी हुँ और ना ही मुझे जातिवादी बनने का शौक है और ना ही कायस्थ समाज को जागृत करने मे मेरा कोई स्वार्थ छिपा है। मै कल भी एक कट्टर सनातनी था आज भी एक कट्टर सनातनी हुँ और विश्वास दिलाता हुँ सनातन धर्म के प्रति मेरी ये कट्टरता भविष्य मे भी बनी रहेगी। इन शब्दों के बावजूद भी हमे कोई जातिवादी कहे तो मै बस इतना ही कहुँगा कि कुत्तो के भौकने से हाथी रास्ता नही बदला करते। मै ‘कायस्थ समाज’ से संबंध रखता हूँ । जो मेरे मित्र इस से सर्वथा अपरिचित हैं, उनकी जानकारी के लिए बता दुँ कि उत्तर भारत के बहुलांश क्षेत्रों मे कायस्थों की जबर उपस्थिति मौजूद है, हालांकि यह समाज देश के अन्य हिस्सों मे भी विद्यमान है । इनकी जनसंख्या काफी सीमित है परंतु इस वर्ग से संबन्धित सम्मानित महापुरुषों , विद्वानो, राजनेताओ , समाज सेवियों की एक लंबी फेहरिस्त मिलेगी जिन्होंने अपनी विद्वता, कर्मठता और प्रतिभा का लोहा पूरे विश्व मे मनवाया है । सम्राट अकबर के नवरत्न बीरबल से लेकर आधुनिक समय मे स्वामी विवेकानंद , राजा राम मोहन रॉय , महर्षि अरविंद ,श्रीमंत शंकर देव ,महर्षि महेश योगी, मु…

गरुड़ शास्त्र में पराई स्त्री के साथ सम्बन्ध बनाने एवं दैनिक कर्म के परिणाम

हमारे गृहस्थ जीवन के बारे में भारतीय प्राचीन शास्त्रों बहुत से सुझाव लिखे गये है| हर काम को करने के नतीजों के बारे में बताया गया है, फिर वो चाहे अच्छे कर्म हो या बुरे, अच्छे कर्मो का नतीज़ा हमेशा ही अच्छा होता है वही बुरे कर्मों के बुरे नतीजे भी लोगो को भुगतने पड़ते है।  शास्त्रों के अनुसार किसी पराई स्त्री के साथ सम्भोग करना पाप माना जाता है, और ऐसे इंसान को सीधे नर्क में जाना पड़ता है। वही किसी स्त्री के ऊपर बुरी नज़र रखने वाले, किसी पराई स्त्री के साथ संभोग का सोचने वाले लोगो को भी नर्क में ही जगह दी जाती है।
एक समय था, जब दिल्ली के पुराना किला स्थित भैरों मंदिर में किले की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से प्राणियों को दुष्कर्मों से दूर रहने के लिए मृत्यु उपरान्त यमलोक में दी जाने वाली यातनाओं से अवगत करवाया जाता था। लेकिन पश्चिमी सभ्यता के मानव जीवन पर हावी होने के कारण मानव जीवन से हिन्दू मान्यताएँ धूमिल ही नहीं हुईं, बल्कि आस्था पर भी आघात हुआ है।
परिवार में किसी मृत्यु उपरान्त गरुड़ पुराण पाठ किया जाता है, लेकिन मनुष्य है, इसे केवल मृतक तक ही सीमित समझ एक धार्मिक पूर्ति मात्र मान कर…

किसने कहा चारु निगम कायस्थ है?

यूपी का सीएम बनने के बाद से फुल एक्शन मोड में चल रहे योगी आदित्यनाथ लगातार प्रदेश में कानून के राज का ढिंढोरा पीटते रहे  हैं। लेकिन उनके अपने लोग ही उनकी साख पर बट्टा लगाने का काम कर रहे हैं। लगता है इन विधायक महोदय को सपा और बसपा से ट्रेनिंग मिली हुई है। इनको शायद यह नहीं मालूम कि यूपी में किसी अखिलेश या मायावती का नहीं बल्कि एक योगी का है।  यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के विधानसभा क्षेत्र में पुलिस अधिकारी के बदतमीजी का वीडियो वायरल हो रहा है। ताजा मामला योगी के गृहनगर गोरखपुर का है जहां नगर विधायक राधा मोहन अग्रवाल ने कायस्थ समाज से महिला आईपीएस चारू निगम को ऐसी फटकार लगाई कि उनकी आंखों से आंसू निकल आए। महिला आईपीएस चारु निगम से बदसलूकी करने वाले बीजेपी के नेता डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल हैं। राधा मोहन ने उन्हें ऐसी फटकार लगाई कि वे लोगों के सामने ही भावुक होकर रो पड़ीं। इस पर उनका विरोध किया जा रहा है, लेकिन राधा मोहन ने माफी मांगने से इनकार कर दिया है। मीडिया में आयी जानकारी के मुताबिक चिलुआताल थाना क्षेत्र में शराब की बिक्री के विरोध में ग्रामीण महिलाएं विरोध-प्रदर्शन कर रही थीं। …